टुईंयां (Tuinyaan)

देख लो ना,
वही बात है;
जो है सो है,
बाकी कोई बात नहीं ।

कहने वाले तो कहते रहेंगे ।
पगले हैं सब !
दिमाग भी हैं उनमें?
बात करते हैं !
गधे कहीं के !!

समझता तो कुछ है नहीं,
और आ जाते हैं ज्ञान देने !

दोनों आंखों के बीच में जो तीसरा है ना;
वहाँ से जब तक फूट के ना बह निकले
तब तक चुपचाप रहो,
ज्ञान न दो ।

सबके पास है ज्ञान ।
अपनी जरूरत भर का सबके पास है ।
बड़े आऐ ज्ञानी बनने !

दाएं बांए
भागने जगह नहीं मिलेगी
जब छहतरफा कोई दिशा ज़मीन आकाश ना हो ।
दिमाग सुन्न भी नहीं;
छुन्ना हो जाएगा !

पता भी है कुछ
कहां हो?

जहां पे हो न
वहीं रह जाओगे !
कुप्पा बन के,
टुईंयां कहीं के !

टुईंयां का मतलब पता है?
टुईंयां का मतलब पता नहीं
और आ गए ज्ञान देने !

हुट्ट !

image

09:03 am
Thursday
9 June 2016

Advertisements

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s